खेतों में मिले अजीबोगरीब पांव के निशान, खौफ में 50000 लोग

0
74

उत्तर प्रदेश के खीरी जिले में अजीबोगरीब पैरों के निशान मिलने से 50 हजार की आबादी खौफ़जदा है. शहर से सटे फूलबेहड़ इलाके में तीन दिनों से खेतों में ये भारी भरकम पांव के निशान मिलने से इलाके में सनसनी फैली हुई है.

बुढ़नापुर गांव के बलबीर सिंह कहते हैं, ‘साहब कोई दिखाई भी नहीं देता. लेकिन सुबह खेतों में ये अजीबोगरीब निशान दिखाई पड़ते हैं. आखिर इतने बड़े-बड़े पांव किसके हैं, समझ नहीं आ रहा.’

खेतों में मिले अजीबोगरीब पांव के निशान, खौफ में 50000 लोग

यूपी के खीरी जिले में अजीबोगरीब पैरों के निशान मिलने से 50 हजार की आबादी खौफ़जदा है. शहर से सटे फूलबेहड़ इलाके में तीन दिनों से खेतों में ये भारी भरकम पांव के निशान मिलने से इलाके में सनसनी फैली हुई है.

किसी को नहीं पता, किसके हैं निशान

फूलबेहड़ के बलवापुर, सफियापुर, मेंहंदी, महेवागंज आदि तमाम गांवों में इन निशानों से लोग खौफजदा हैं. खेतों में इस तरह से भारी-भरकम पैरों के निशान बने मिलने से लोग डरे हैं.

ये निशान किसके हैं यह रहस्य ही बना हुआ है. सरसों के खेत हों या गन्ने के खेत, आलू हो या गेंहू हर खेत में ये भारी-भरकम निशानों के मिलने से लोग सकते में हैं.

घरों में दुबके लोग

कोई इसे मकुना हाथी कह रहा है तो कोई इन निशानों को शैतान के पांव भी बता रहा है. खेत में पानी लगा रहे असलम कहते हैं समझ में नहीं आ रहा. इतने बड़े निशान आज तक हमलोगों ने नहीं देखे. कोई जानवर है या कोई बलाय ये भी नहीं पता.

शहर और जिला मुख्यालय के पास तक पहुंच गए इन आदमकद पांव के निशानों से लोग हैरान हैं. सूर्यास्त होते ही लोग घरों में दुबक जा रहे हैं. लोग खेतों में काम पर नहीं जा रहे हैं. गेंहू को पानी नहीं लगा रहे और गंन्ने की छिलाई भी बन्द हो गई है.

प्रशासन को कोई खबर ही नहीं

करीब पचास हजार की आबादी और तीन दर्जन से ज्यादा गांवों में इन पैरों का खौफ सर चढ़कर बोल रहा है. दिलचस्प बात यह है कि प्रशासन इन खौफ के पैरों से अनजान है.

वाइल्ड लाइफ के जानकार डॉ. वीपी सिंह कहते हैं कि देखने पर ही पता चल सकेगा कि ये निशान किसके हैं. वो अंदेशा व्यक्त करते हैं बड़े पांव दो ही जानवरों के होते हैं- एक गैंडा और एक हाथी. हो सकता है जंगल से भटककर कोई जानवर आ गया हो.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY