उत्तराखंड में आयुर्वेद के इलाज और रिसर्च को बढ़ावा देने के लिए एम्स की तर्ज पर खुलेगा एआईआईए

उत्तराखंड में एम्स की तर्ज पर ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ़ आयुर्वेदा एआईआईए खोलने को लेकर राज्य सरकार की ओर से केंद्र को प्रस्ताव भेजा गया है| इस संस्थान की स्थापना के बाद राज्य में आयुर्वेद के इलाज और रिसर्च को भी बढ़ावा मिलेगा| आपको बता दें कि उत्तराखंड में आयुर्वेद की अपार संभावनाएं हैं इसी वजह से राज्य तेजी से एक वैलनेस स्टेट के रूप में उभर रहा है देश के कई नामी संस्थान वैलनेस के सेक्टर में राज्य में निवेश कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें – मुख्यमंत्री सौर स्वरोजगार योजना में 5265 किलोवॉट के पांच प्लांट को मंजूरी- आर मीनाक्षी सुंदरम

आयुर्वेद की रिसर्च को भी मिलेगा बढ़ावा 

इस सम्बन्ध में जानकारी देते हुए आयुष सचिव डॉ पंकज पांडे ने बताया कि राज्य में ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ आयुर्वेद की स्थापना करने की योजना बनाई गई है| इस बाबत केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेज दिया गया है केंद्र की मंजूरी के बाद इस संस्थान को लेकर आगे की कार्रवाई शुरू होगी| सरकार का प्रयास है कि आयुर्वेद के इलाज के साथ ही रिसर्च को भी बढ़ाया जाए।

200 बेड तक का होगा अस्पताल 

यदि केंद्र सरकार से इसकी मंजूरी मिली तो दिल्ली एआईआईए की तर्ज पर बीएएमएस, एमडी के कोर्स के साथ ही पीएचडी की सुविधा मिलेगी, साथ ही यहां पर 200 बेड तक का अस्पताल बनेगा और उसमें आयुर्वेद की 20 अलग-अलग विधाओं के उपचार की सुविधा मिलेगी।

 

(Visited 141 times, 1 visits today)