CM ने कहा पोक्सो एक्ट के प्रति जागरूकता जरूरी

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने उत्तराखंड बाल संरक्षण आयोग द्वारा देहरादून में पोक्सो अधिनियम पर आयोजित एक दिवसीय कार्यशाला का शुभारंभ किया।
बुधवार को उत्तराखंड बाल आयोग द्वारा सुभाष रोड स्थित एक होटल में पोक्सो एक्ट की एक दिवसीय कार्यशाला में सीएम धामी ने कहा कि आज बच्चों में रचनात्मकता एवं सृजनात्मकता बढ़ाने की जरूरत है। बच्चों के भविष्य को सुनहरा बनाने में उनके माता, पिता और शिक्षकों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। नोनिहालों से जुड़ी इस तरह की कार्यशालाओं का नियमित आयोजन होना चाहिए। जिन बच्चों को अच्छी शिक्षा और अच्छी परवरिश नहीं मिल रही उनके लिए समाज को आगे आना चाहिए। सरकार समाज के प्रत्येक वर्ग के जीवन स्तर में सुधार के लिए निरंतर प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि हमारा पहला कर्तव्य है कि बच्चों को एक भयमुक्त वातावरण उपलब्ध कराये। राज्य सरकार द्वारा बाल कल्याण के लिए विभिन्न योजनाएं चलाई जा रही हैं। बच्चों के अधिकारों के लिए जो कानून बने हैं, उनका सख़्ती से पालन किया जा रहा है। साथ ही उन्होंने कहा कि इस तरह के आयोजन समाज में जागरूकता फैलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार सरलीकरण, समाधान और निस्तारण के ध्येय वाक्य से कार्य कर रही है। इस मौके पर महिला बाल विकास मंत्री रेखा आर्य ने कहा कि प्रदेश के नौनिहालों के साथ सरकार हर तरीके से खड़ी है कोरोना काल में अपने परिजनों को गवा चुके बच्चों को वात्सल्य योजना के ज़रिए सरकार सहायता प्रदान कर रही है। उन्होंने कहा कि वात्सल्य योजना देश में सबसे लोकप्रिय योजनाओं में से एक है। डीजीपी अशोक कुमार ने पोक्सो एक्ट विस्तृत जानकारी दी। सीएम ने कार्यक्रम के दौरान पोक्सो एक्ट पर प्रकाशित एक पुस्तक का विमोचन करने के साथ ही पोक्सो वॉरियर्स को सम्मानित भी किया।

(Visited 41 times, 2 visits today)