भारतीय नौसेना ने समुद्री बुनियादी ढांचे को बढ़ावा देने की 15 वर्षीय योजना का किया अनावरण

पीटीआई। भारतीय नौसेना ने सोमवार को समुद्री बुनियादी ढांचे को बढ़ावा देने की 15 वर्षीय योजना का अनावरण किया। वहीं, नौसेना प्रमुख एडमिरल आर. हरि कुमार ने कहा कि भविष्य की चुनौतियों से निपटने के लिए नौसेना तीनों सेनाओं के एकीकरण की दिशा में थलसेना और वायुसेना के साथ मिलकर काम कर रही है। एडमिरल हरि कुमार दिल्ली में आयोजित नौसेना कमांडरों के तीन दिवसीय सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

क्या कहा नौसेना ने ?

इस सम्मेलन में भारत की समुद्री सुरक्षा चुनौतियों और हिंद महासागर क्षेत्र में चीन के बढ़ते प्रभाव के मद्देनजर तीनों सेनाओं के बीच तालमेल बढ़ाने के तरीकों पर मंथन किया जा रहा है। सम्मेलन में रक्षा राज्यमंत्री अजय भट ने मेरीटाइम इंफ्रास्ट्रक्चर पर्सपेक्टिव प्लान (एमआइपीपी) 2023-37 जारी किया। नौसेना ने कहा कि एमआइपीपी का लक्ष्य एक व्यापक योजना माडल के जरिये अगले 15 वर्षों में नौसेना की बुनियादी ढांचे की आवश्यकताओं को पूरा करना है।

सम्मेलन में कौन-कौन होगा शामिल ?

योजना दस्तावेज स्थायी बुनियादी ढांचे के निर्माण संबंधी सरकार के दृष्टिकोण के अनुरूप है और इसमें पीएम गतिशक्ति योजना और नेट जीरो ट्रांजिशन आदि पर व्यापक नीति निर्देशों के अनुपालन की मुख्य बातें शामिल हैं। सम्मेलन को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल, सीडीएस जनरल अनिल चौहान, थलसेना प्रमुख जनरल मनोज पांडेय और वायुसेना प्रमुख एयरचीफ मार्शल वीआर चौधरी भी संबोधित करेंगे।

 
(Visited 26 times, 1 visits today)