आदित्‍य-एल1 ने की धरती से लगभग 9.2 लाख किलोमीटर की दूरी तय, ISRO ने एक्स पर साझा की जानकारी

पीटीआई, नई दिल्ली: इसरो के आदित्य-एल1 मिशन को लेकर एक अच्छी खबर आई है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने एक्स पर किए एक पोस्ट में बताया है कि आदित्‍य-एल1 धरती से लगभग 9.2 लाख किलोमीटर से ज्‍यादा की दूरी तय कर चुका है। अंतरिक्ष यान ने यह दूरी पृथ्वी के प्रभाव वाले क्षेत्र से सफलतापूर्वक बचकर तय की है।

https://x.com/isro/status/1708109758454993364?s=20

लैग्रेंज प्वाइंट-1 की ओर बढ़ रहा अंतरिक्ष यान

एक्स पर किए पोस्ट में ISRO ने बताया कि अंतरिक्ष यान अब सूर्य-पृथ्वी लैग्रेंज प्वाइंट-1 की ओर बढ़ रहा है।

यह लगातार दूसरी बार है कि इसरो पृथ्वी के प्रभाव क्षेत्र के बाहर अंतरिक्ष यान भेजने में सफल रहा है। पहली बार मार्स ऑर्बिटर मिशन के दौरान इसरो ने यह कीर्तिमान स्थापित किया था। इससे पहले इसरो ने बताया था कि आदित्य-एल1 अंतरिक्ष यान ने डेटा एकत्र करना शुरू कर दिया है। इस डाटा की सहायाता से वैज्ञानिकों को पृथ्वी के आसपास के कणों की स्टडी करने में मदद मिलेगी।

यह भी पढ़ें – मणिपुर BJP इकाई ने पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा को लिखा पत्र, राज्य सरकार पर हिंसा रोकने में विफल रहने का आरोप

इसरो ने दो सितंबर को किया प्रक्षेपण

इसरो द्वारा बीती 2 सितंबर को पीएसएलवी-सी57  रॉकेट की सहायता से आदित्य-एल1 का प्रक्षेपण किया गया था। जिसके बाद वो मंगलवार 19 सितंबर को ट्रांस-लैग्रेजियन प्वाइंट 1 इंसर्शन की प्रक्रिया पूरी कर पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र से बाहर पहुंचाया गया था। इसके साथ ही क्रूज चरण की शुरुआत हो गई थी। क्रूज चरण के बाद लैग्रेजियन प्वाइंट 1 (एल1) के पास पहुंचेगा। एल1 पृथ्वी से 15 लाख किलोमीटर दूर है।

(Visited 23 times, 1 visits today)