“सीबीआई द्वारा ‘ऑपरेशन चक्र-2’ के तहत साइबर क्राइम पर बढ़ाई सुरक्षा, 76 जगहों पर छापेमारी की गई”

एएनआई। देश में साइबर क्राइम पर सख्ती करते हुए सीबीआई ने गुरुवार (19 अक्टूबर) को देशव्यापी अभियान ‘ऑपरेशन चक्र-2’ चलाया है। सीबीआई ने उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, हरियाणा, पंजाब, बिहार, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश और पश्चिम बंगाल में 76 जगहों पर छापेमारी की है। ऑपरेशन चक्र-2 का उद्देश्य भारत में संगठित सक्रिय साइबर फाइनेंशियल क्राइम के बुनियादी ढांचे का मुकाबला करना और उसे जड़ से खत्म करना है।

सीबीआई ने यह ऑपरेशन प्राइवेट क्षेत्र के दिग्गज कंपनियों के साथ-साथ राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों के सहयोग से चलाया गया है। इस दौरान साइबर क्राइम में संलिप्त अपराधियों की धरपकड़ की गई है। सीबीआई के अनुसार तलाशी अभियान के दौरान 32 मोबाइल फोन, 48 लैपटॉप, दो सर्वर की फोटो, 33 सिम कार्ड और पेन ड्राइव जब्त की गई हैं। इस दौरान सीबीआई ने कई बैंक खातों को भी फ्रीज कर दिया है।

यह भी पढ़ें – भारत ने इजरायल-हमास युद्ध के बीच अंतरराष्ट्रीय मानवीय कानून का पालन करने का किया आह्वान 

To continue its fight against transnational organized Cyber Crime Networks, the Central Bureau of Investigation (CBI) launched Operation Chakra-II, aiming to combat and dismantle infrastructure of organized cyber-enabled financial crimes in India. This operation was conducted in… pic.twitter.com/UZ045czvkC

— ANI (@ANI) October 19, 2023

अंतर्राष्ट्रीय टेक्नोलॉजी की मदद से धोखाधड़ी के दो मामले सामने आए

ऑपरेशन चक्र-2 के तहत की गई छापेमारी में अंतरराष्ट्रीय टेक्नोलॉजी की मदद से धोखाधड़ी के दो मामले सामने आए हैं। इन मामलों में, आरोपियों ने एक वैश्विक स्तर पर काम करने वाली आईटी प्रमुख और एक ऑनलाइन टेक्नोलॉजी-संचालित ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म वाले बहुराष्ट्रीय को-ऑपरेशन का प्रतिरूपण (नकली पहचान) किया। 5 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में नौ कॉल सेंटर संचालित करने वाले आरोपी, टेक्निकल सपोर्ट प्रतिनिधियों के रूप में भेष बदलकर व्यवस्थित रूप से विदेशी नागरिकों को शिकार बनाते थे।

ये एजेंसियां सीबीआई का दे रहीं साथ

ऑपरेशन चक्र-2 के दौरान इकट्ठा किए गए सबूतों के आधार पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कानून प्रवर्तन एजेंसियों ने पीड़ितों और शेल कंपनियों की पहचान की है। साइबर क्राइम पर नकेल कसने के लिए सीबीआई अपने अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों के साथ मिलकर काम कर रही है। इन एजेंसियों में अमेरिका की एफबीआई, साइबर क्राइम निदेशालय और इंटरपोल के आईएफसीएसीसी, यूके की नेशनल क्राइम एजेंसी और सिंगापुर पुलिस शामिल हैं।

(Visited 557 times, 1 visits today)